दुर्लभ बीमारी से ग्रसित ह्रदयांश को मिली नई जिंदगी, लगाया 17.50 करोड़ का इंजेक्शन | जानें कौनसी है यह बीमारी

स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी नामक दुर्लभ बीमारी से जिंदगी की जंग लड़ रहे राजस्थान के मासूम ह्रदयांश को 17.50 करोड़ रुपए का इंजेक्शन लगा दिया गया है। जयपुर के जेके लोन

अब चिंता नहीं करें बुजुर्ग, राजस्थान के अस्पतालों में बनाए ‘रामाश्रय’

तबीयत ठीक नहीं रहती। इलाज कराने सरकारी अस्पताल जाऊं तो वहां मेरी देखभाल और सेवा कौन करेगा? कुछ ऐसी ही चिंता में डूबे बुजुर्गों के लिए यह

Identify Fake Medicines: धड़ल्ले से बिक रही हैं नकली दवाएं, खरीदने से पहले ऐसे करें असली-नकली की पहचान 

Identify Fake Medicines: सर्दी-जुकाम, बुखार होने पर अक्सर हम मेडिकल स्टोर से दवा लेकर खरीदकर खा

नकली दवाओं का गोरखधंधा; चाक पाउडर की मदद से बनाई जातीं थीं गोलियां, ₹44 लाख की टैबलेट जब्त | बड़ी फार्मा कंपनियों के नाम पर हो रही थी दवाओं की कालाबाजारी | ये भी हुए चौंकाने वाले खुलासे

बड़ी फार्मा कंपनियों के नाम पर नकली दवाईयों की कालाबाजारी का एक बड़ा मामला पकड़ में आया है। नकली दवाइयों का धंधा करने वाले लोग चाक

फार्मासिस्ट पर नकेल; अब डॉक्टर की पर्ची पर ही बेच सकेंगे एंटीबायोटिक दवाएं, डॉक्टर्स को भी पर्ची पर लिखनी होगी वजह | केंद्र सरकार ने इसलिए बरती सख्ती

केंद्र सरकार ने एंटीबायोटिक दवाओं के बेतहाशा उपयोग को देखते हुए इन पर नकेल कस दी है। सरकार ने इसे लेकर निर्देश जारी किए हैं जिसके अनुसार अब कोई भी

बच्चों के ये दो सिरप बैन, बच्चों की मौत के बाद DCGI ने किया फैसला

भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने सर्दी-जुकाम और फ्लू में इस्तेमाल होने वाले कुछ कफ सिरप को बनी कर दिया है। अब इन दवाओं को किसी भी मेडिकल स्टोर में बेचा नहीं जा सकेगा। डीसीजीआई ने इन कफ

अब जेनेरिक दवाएं नहीं लिखी तो डॉक्टर्स के खिलाफ होगा एक्शन, NMC ने जारी किए नए नियम | IMA विरोध में उतरा

नेशनल मेडिकल कमीशन (राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग) NMC ने डॉक्टर्स के लिए एक वार्निंग जारी की है और कहा है कि वह रोगियों को जेनरिक दवाएं

Big Action: घटिया दवा बनाकर सेहत से खिलवाड़ कर रही थीं ये दवा कंपनियां, केंद्र सरकार ने रद्द किए 23 के लाइसेंस | यहां देखिए इनकी लिस्ट, हिमाचल, राजस्थान, UP, उत्तराखंड और मध्यप्रदेश सहित बीस राज्यों में चल रहा था प्रोडक्शन

’30 वर्ष से कम की नौकरी पर कर्मचारियों को तीसरी प्रोन्नति का हक़ नहीं’| कोर्ट का अहम फैसला; कहा-पहले गलती हुई है तो इसका मतलब ये नहीं कि उसे दोहराया…

मेडिकल क्लेम के लिए 24 घंटे अस्पताल में भर्ती होना जरूरी नहीं’| कंज्यूमर कोर्ट का बड़ा आदेश

उपभोक्ता फोरम ने मेडिकल इंश्योरेंस से जुड़े मामले में एक बड़ा फैसला सुनाया और कहा है कि मेडिकल इंश्योरेंस का क्लेम करने के लिए जरूरी नहीं कि किसी व्यक्ति को अस्पताल में

अब बत्तीसी नहीं अट्ठाईसी बोलिए, घट रहे हैं दांत और गायब हो रही है अक्ल दाढ़ | एक स्टडी में खुलासा

यदि आप किसी की बत्तीसी तोड़ने या फिर कैसी बत्तीसी निकाल रहा / रही है की बात कह कर किसी का मजाक बना रहे हैं तो संभल जाइए और अट्ठाईसी ही बोलिए। क्योंकि अब युवाओं के दांत